भारत के खनिज संसाधन: bharat ke khanij sansadhan

खनिज दो या दो से अधिक तत्वों का योग होता है। इसका एक निश्चित रासायनिक संघटन एवं आडविक संरचना होती है। यह प्राक़तिक तौर पर अकार्बनिक क्रियाओ से निर्मित पदार्थ है। खनिज संसाधनों से तात्पर्य उन सभी बस्तुओं और पदार्थो से है। जिनका मानव के लिए आर्थिक महत्व है। तथा उन्हें खनन क्रिया द्वारा प्राप्त किया जाता है। खनिज सामान्यता अनेक अशुदियों के साथ अयस्क के रूप में पाए जाते है। अशुदियों को दूर कर इनका उपयोग आर्थिक लाभ के लिए किया जाता है। खनिज की उपलब्धता तथा प्रति व्यक्ति उपभोग किसी देश या प्रदेश के आर्थिक विकास की छमता एवं स्तर का महत्वपूर्ण संकेत होती है भारत में विविध प्रकार के खनिज विधमान है।

भारत में खनिज (bharat ke khanij)

भारत में खनिजों के वितरण में प्रादेशिक असमानताएं पाई जाती है। देश की अधिकांश खनिज सम्पदा प्रायद्वीपीय पठार में केंद्रित है। जबकि हिमालय

Leave a comment